भारत में रिलीज:'वुहान डायरी',कोरोना से हारे लाखों लोगों की दर्दनाक झलक,जानिए कैसे मिलेगी पढ़ने को

Picture Courtesy From Social Media

By : News RedBull | Published On: May 16, 2020 |
428


भारत में रिलीज:'वुहान डायरी',कोरोना से हारे लाखों लोगों की दर्दनाक झलक,जानिए कैसे मिलेगी पढ़ने को

नई दिल्ली: Online Desk चीन के वुहान से निकला वायरस भले ही पूरी दुनिया में त्रासदी मचा रहा है लेकिन चीन शुरू से ही इसकी जानकारी और सूचना के लिए मनमाना रवैया अपनाता रहा है. ना ही वो दुनिया को शुरुआती सूचना दे पाया, ना ही वह इसे अब तक अन्य देशों को समझाने में कामयाब रहा है.

इस महिला की डायरी में छिपा है कोरोना का सीक्रेट, सच से डरा चीन

ऐसे में यह आरोप लगना लाजिमी है कि चीन की वजह से दुनिया इस तबाही तक पहुंच गई है. इसी बीच चीन के वुहान शहर में हुए लॉकडाउन के दौरान एक महिला द्वारा लिखी गई एक डायरी बाहर आ गई है.

जानी-मानी चीनी साहित्यकार फांग फांग की चर्चित 'वुहान डायरी: डिस्पैचेज फ्रॉम ए क्‍वारंटीन्‍ड सिटी' को भारत में ईबुक फॉरमेट में जारी कर दिया गया है.

भारत में रिलीज हुई 'वुहान डायरी', मिलेगी भय-क्रोध, कुंठा और लाखों लोगों की दर्दनाक झलक

हार्पर नॉन-फिक्शन द्वारा प्रकाशित इस किताब का ऑडियो 26 मई को आएगा.  15 भाषाओं में अनुवादित होने वाली यह पुस्तक, लेखक की डायरी प्रविष्टियों और सोशल मीडिया की उन पोस्ट का संकलन है जो COVID-19 महामारी के दौरान उन्‍होंने लिखी थीं. यह वुहान के 60 दिनों के लॉकडाउन का एक दस्तावेज है.

इस महिला की डायरी में छिपा है कोरोना का सीक्रेट, सच से डरा चीन

25 जनवरी, 2020 को चीन की केंद्र सरकार द्वारा वुहान में लॉकडाउन किए जाने के बाद, फांग फांग ने एक ऑनलाइन डायरी प्रकाशित करना शुरू किया था. उसके बाद के दिनों और हफ्तों में इस प्रशंसित लेखक की हर रात की जाने वाली पोस्‍ट ने भय, कुंठाओं, क्रोध और लाखों साथी नागरिकों की आवाज उठाई, जिसमें जबर्दस्ती किए गए इस अलगाव के मनोवैज्ञानिक प्रभाव को दर्शाते हुए, इंटरनेट की दोहरी भूमिका भी दिखाई. जो कि इस दौरान एक जीवन रेखा भी बन गया था और दूसरी ओर गलत सूचना का स्रोत भी. 

Covid 19 Latest Update || Wuhan Diary में क्या China का ...

अवॉर्ड विजेता लेखिका फैंग-फैंग को अब जान से मारने की धमकी मिल रही है. धमकी खुद चीन की तरफ से मिली है. और फैंग-फैंग का कसूर सिर्फ इतना है कि उन्होंने वो सच बयां किया है जो चीन में घटा है. उन्होंने इस वुहान वायरस के बारे में लिख दिया है, जो पूरी दुनिया में तबाही मचा रहा है. उन्होंने 76 दिनों के वुहान लॉकडाउन में डायरी लिखी है.

वह लिखती हैं, "यह वायरस पूरी मानव जाति का एकसमान दुश्मन है. यह पूरी मानवता के लिए एक सबक है. हम इस वायरस को जीत सकते हैं और इसकी चपेट से खुद को मुक्त कर सकते हैं. इसके लिए पूरी मानव जाति को एक साथ काम करना जरूरी है."

अगर उनकी डायरी के कुछ पन्नों पर नजर डालें तो 13 फरवरी को फैंग-फैंग एक कब्रिस्तान की तस्वीर लगाकर लिखती हैं, 'मुझे ये तस्वीर मेरे एक डॉक्टर मित्र ने भेजी है. यहां चारों तरफ फर्श पर मोबाइल फोन बिखरे पड़े हैं. कभी इन मोबाइल का कोई मालिक भी रहा होगा.' 

इस महिला की डायरी में छिपा है कोरोना का सीक्रेट, सच से डरा चीन

उस दौर में जब चीन की सरकार मौतों की संख्या छिपाने में लगी थी, फैंग-फैंग ने उजागर कर दिया कि कब्रिस्तानों में मोबाइल बिखरे पड़े थे, वो बिखरे मोबाइल संकेत थे कि मौतें किस रफ्तार से हो रही थीं.

---------------------------------------------------------------------

17 फरवरी के पन्ने पर फैंग-फैंग ने लिखा, 'अस्पताल कुछ दिनों तक मृत्यु सर्टिफिकेट बांटते रहेंगे और शव वाहनों में कई शव श्मशानों तक पहुंचाए जाते रहेंगे और ये वाहन दिन में कई चक्कर लगाते रहेंगे.' 

फैंग-फैंग का मकसद सिर्फ मौत की तांडव गाथा लिखने की नहीं थी. उन्होंने अस्पतालों की दुर्दशा के बारे में भी लिखा. अस्पतालों में जगह नहीं है, डॉक्टर मरीजों को देख तक नहीं पा रहे, किसी को किसी की फिक्र ही नहीं है. ये सब भी उन्होंने लिखा.

Related News

Like Us

HEADLINES

एकता कपूर पर FIR से बॉलीवुड में मचा हड़कंप: जानिये किसने कहाँ और क्यों कराई है !NewsRedbull | भयानक अंधविश्वाश: गांव को बचाने के लिए शिवमंदिर में चढ़ा दी अपनी जीभ,जानिए कारण|NewsRedbull | Social Media की नई सनसनी बनी साउथ की यह अभिनेत्री, लोग देख रहे हैं जी भर के PHOTOS! NewsRedbull | कानपुर में खूनी खेल: रंगेहाथ पकडे जाने पर प्रेमी संग किया भाई मो.जफर का कत्ल,रची झूठी कहानी|NewsRedbull | दिन दहाड़े LIC की कैश वैन पर गोलियों की बौछार:लाखों की लूट,जानिए कितने हुए घायल|UP| |