जानिये क्यों गोली मारकर की थी खुदकुशी, इस क्रिकेटर के हैं हैरत अंगेज रिकॉर्ड ! NewsRedbull

Picture Courtesy From Social Media

By : News RedBull | Published On: May 12, 2020 |
364


जानिये क्यों गोली मारकर की थी खुदकुशी, इस क्रिकेटर के हैं हैरत अंगेज रिकॉर्ड ! NewsRedbull

New Delhi// Online Desk NewsRedbull Sports// मौजूदा दौर में अलबर्ट ट्रॉट का नाम भले ही अनजाना-सा लगता हो, लेकिन इस क्रिकेटर के नाम बड़े चौंकाने वाले रिकॉर्ड हैं.

हैरानी वाली बात तो यह है कि ऑस्ट्रेलिया में पैदा हुए इस ऑलराउंडर ने 41 साल की उम्र में खुद को गोली मार ली थी. लेकिन आज भी ट्रॉट के हैरतअंगेज कारनामे रोमांचित करते हैं.

Campaign for Blue Plaque in Willesden to honour cricketer Albert ...

ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड दोनों के लिए टेस्ट क्रिकेट खेला

करिश्माई क्रिकेटर ट्रॉट का टेस्ट करियर महज पांच टेस्ट मैच का रहा. उन्होंने ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड दोनों के लिए टेस्ट क्रिकेट खेला. (3 टेस्ट ऑस्ट्रेलिया और 2 टेस्ट इंग्लैंड की ओर से). ट्रॉट ने जनवरी 1895 में एडिलेड में इंग्लैंड के खिलाफ डेब्यू किया था.

111 साल पहले आज ही क्रिकेट की दुनिया ...

टेस्ट डेब्यू- एक पारी में 8 विकेट लेने वाले पहले बॉलर

ट्रॉट अपने पहले ही टेस्ट की एक पारी में 8 विकेट लेने वाले पहले गेंदबाज बन गए. उनके बाद से डेब्यू टेस्ट की पारी में अबतक 8 गेंदबाजों ने 8-8 विकेट झटके हैं. लेकिन सबसे कम रन देकर 8 विकेट लेने का रिकॉर्ड आज भी दाहिने हाथ के स्लो बॉलर ट्रॉट के नाम है. देखिए ये लिस्ट-

TOP-3: डेब्यू टेस्ट- एक पारी में सबसे किफायती 8 विकेट लेने वाले

1. अलबर्ट ट्रॉट (ऑस्ट्रेलिया) : 27 ओवर, 10 मेडन, 43 रन, 8 विकेट, 1895 (विरुद्ध इंग्लैंड- एडिलेड)

2. बॉब मेसी (ऑस्ट्रेलिया) : 27.2 ओवर, 9 मेडन, 53 रन, 8 विकेट, 1972 (विरुद्ध इंग्लैंड- लॉर्ड्स)

3. नरेंद्र हिरवानी (भारत) : 18.3 ओवर, 3 मेडन, 61 रन, 8 विकेट, 1988 (विरुद्ध वेस्टइंडीज- चेन्नई)

Derbyshire Cricket - Peakfan's blog: Book Review: Over And Out ...

... तो इसलिए ऑस्ट्रेलिया छोड़कर इंग्लैंड चले गए

अलबर्ट ट्रॉट ने ऑस्ट्रेलिया की ओर से तीन टेस्ट में 102.50 की औसत से रन बनाए. फिर भी ऑस्ट्रेलियाई सलेक्टर्स ने उन्हें तवज्जो नहीं दी और 1896 के दौरे के लिए टीम में नहीं चुना. इसके बावजूद ट्रॉट ने हिम्मत नहीं हारी और वह खुद के खर्च पर इंग्लैंड चले गए. जहां उन्हें काउंटी क्रिकेट में मिडिलसेक्स की तरफ से खेलने का मौका मिल गया. इसी के बाद 1899 में ट्रॉट ने इंग्लैंड की ओर से दक्षिण अफ्रीका में 2 टेस्ट खेले.

लॉर्ड्स में सबसे बड़ा छक्का लगाने वाले एकमात्र क्रिकेटर

1899 में जब ऑस्ट्रेलिया की टीम इंग्लैंड दौरे पर आई तो ट्रॉट ने जबर्दस्त धमाका किया. दरअसल, लॉर्ड्स में 31 जुलाई को एमसीसी और ऑस्ट्रेलिया के बीच खेले गए मैच में ट्रॉट ने ऑस्ट्रेलिया के मॉन्टी नोबल की गेंद पर ऐसा छक्का जमाया कि इतिहास बना गया. ट्रॉट लॉर्ड्स के पवेलियन के ऊपर से छक्का (120 मीटर) जड़ने वाले एकमात्र खिलाड़ी हैं.

प्रथम श्रेणी क्रिकेट की एक पारी में दो हैट्रिक का कारनामा

1892-1910 के दौरान ट्रॉट ने 375 प्रथम श्रेणी मैच खेले. विक्टोरिया और मिडिलसेक्स उनकी टीमें रहीं. उन्होंने 21.09 की औसत से 1674 विकेट लिए. मिडिलसेक्स ने 1907 में ट्रॉट का बेनिफिट मैच कराया, समरसेट के खिलाफ लॉर्ड्स में ट्रॉट का चमत्कारी प्रदर्शन आज भी हैरान करता है. दरअसल, ट्रॉट प्रथम श्रेणी की एक ही पारी में दो हैट्रिक लेने वाले पहले गेंदबाज बन गए थे.

Albert Trott: 111 साल पहले हुआ था अद्भुत ...

-मैच के तीसरे दिन समरसेट को जीत के लिए 264 रन चाहिए थे. उम्मीद थी कि इस बेनिफिट मैच के आखिरी दिन दोपहर बाद दर्शक जुटेंगे. लेकिन वह मैच ट्रॉट की एक के बाद एक - दो हैट्रिक की वजह से बहुत जल्दी खत्म हो गया. ट्रॉट के लिए धन नहीं उगाहा जा सका. यानी ट्रॉट ने खुद का घाटा करा लिया.

125 साल पुराने रिकॉर्ड को 93 साल बाद ...

-हुआ यूं कि समरसेट की टीम ने लक्ष्य का पीछा करते हुए 77/2 रन बनाए थे. ट्रॉट ने हैट्रिक ली और स्कोर 77/6 हो गया. इसके बाद स्कोर 97/7 रन था, तो एक बार फिर ट्रॉट ने हैट्रिक लेकर पूरी टीम समेट दी. ट्रॉट का गेंदबाजी विश्लेषण रहा- 8-2-20-7.

रोचक FACT

अलबर्ट ट्रॉट के बाद प्रथम श्रेणी क्रिकेट की पारी में दो हैट्रिक लेने का कारनामा जोगिंदर राव ने किया. 1963-64 में नॉर्दर्न पंजाब के खिलाफ अमृतसर में उन्होंने अपने दूसरे मैच में ही यह उपलब्धि हासिल की. सेना की ओर से खेलते हुए जोगिंदर ने दिल्ली में जम्मू-कश्मीर के खिलाफ डेब्यू में भी हैट्रिक ली थी.

सबसे लंबे छक्के का रिकॉर्ड जो पिछले ...

बीमारी के बाद डिप्रेशन में चले गए थे, खुदकुशी की

ट्रॉट पहले ही टेस्ट खेलने की होड़ से बाहर थे. 1910 में उन्होंने प्रथम श्रेणी क्रिकेट से भी खुद को अलग कर लिया और अंपायरिंग में हाथ आजमाया. इस बीच वह ड्रॉप्सी (जलोदर- पेट में पानी भरना) नामक बीमारी के शिकार हुए. धीरे-धीरे ट्रॉट ज्यादा शराब पीने लगे. इसके बाद लगातार डिप्रेशन में रहे. आखिरकार ट्रॉट ने 30 जुलाई 1914 को खुद को पिस्टल से गोली मार ली.

Albert Trott - Wikiwand

वो करारा और ऐतिहासिक शॉट

सीमित ओवर क्रिकेट में तो गगचुंबी छक्के आप आए दिन देखते रहते हैं लेकिन टेस्ट क्रिकेट में भी कई खिलाड़ी जोरदार अंदाज में खेलना की क्षमता रखते हैं। ऐसे ही एक खिलाड़ी थे ऑस्ट्रेलिया के एल्बर्ट ट्रॉट। साल 1873 में आज ही की तारीख (6 फरवरी) में उनका जन्म मेलबर्न में हुआ था।

Lords cricket ground

वो एकमात्र खिलाड़ी थे जिन्होंने ऐसा शॉट मारा था कि गेंद लॉर्ड्स क्रिकेट ग्राउंड की प्रतिष्ठित पवेलियन बालकनी पार करते हुए स्टेडियम बाहर गिरी थी। ना सिर्फ पिच से इस पवेलियन की दूरी लंबी है बल्कि ऊंचाई भी बहुत है। उन्होंने मेरिलबोर्न क्रिकेट क्लब (MCC) की तरफ से खेलते हुए ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाज मोंटी नोबेल की गेंद पर ये ऐतिहासिक शॉट जड़ा था और वो रिकॉर्ड आज तक कायम है।

Related News

Like Us

HEADLINES

भयानक अंधविश्वाश: गांव को बचाने के लिए शिवमंदिर में चढ़ा दी अपनी जीभ,जानिए कारण|NewsRedbull | Social Media की नई सनसनी बनी साउथ की यह अभिनेत्री, लोग देख रहे हैं जी भर के PHOTOS! NewsRedbull | कानपुर में खूनी खेल: रंगेहाथ पकडे जाने पर प्रेमी संग किया भाई मो.जफर का कत्ल,रची झूठी कहानी|NewsRedbull | दिन दहाड़े LIC की कैश वैन पर गोलियों की बौछार:लाखों की लूट,जानिए कितने हुए घायल|UP| | आपके SIM के साथ ऐसे हो सिम स्वैप:कस्टमर केयर बनकर अकाउंट से उड़ाए लाखों रुपये|NewsRedbull |