जनोपयोगी पहल: योगी सरकार खोलने जा रही ऐसे क्लीनिक जहां बगैर डॉक्टरों के ऐसे होगा इलाज |NewsRedbull

Picture Courtesy From Social Media : हाईटेक क्लीनिक में ओपीडी का संचालन नर्स, लैब टेक्नीशियन ही करेंगे इसमें ऑटोमेटिक मशीन से खून की जांच होगी रक्तचाप की जांच होगी और दूर से बैठे हुए डॉक्टर टेली कॉन्फ्रेंसिंग और वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए मरीजों से बात करेंगे.

By : News RedBull | Published On: Aug 11, 2019 |
153


जनोपयोगी पहल: योगी सरकार खोलने जा रही ऐसे क्लीनिक जहां बगैर डॉक्टरों के ऐसे होगा इलाज |NewsRedbull

उत्तर प्रदेश : Online Desk NewsRedbull/ सरकार अब प्रदेश के कुछ गांवों में हाईटेक क्लीनिक खोलने जा रही है. पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर प्रदेश के कुछ जिलों के गांवों में एक हाईटेक क्लीनिक खोली जाएगी. खास बात यह है कि इस क्लीनिक में डॉक्टर की तैनाती नहीं होगी और टेली कॉन्फ्रेंसिंग और वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए मरीजों का इलाज किया जाएगा.

सांकेतिक तस्वीर

इन हाईटेक क्लीनिक में ओपीडी का संचालन नर्स, लैब टेक्नीशियन ही करेंगे इसमें ऑटोमेटिक मशीन से खून की जांच होगी रक्तचाप की जांच होगी और दूर से बैठे हुए डॉक्टर टेली कॉन्फ्रेंसिंग और वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए मरीजों से बात करेंगे. डॉक्टर वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए स्क्रीन पर रिपोर्ट देखेंगे और उसी हिसाब से दवा के बारे में सलाह देंगे. जिसके बाद वह दवा मरीज को मशीन से ही मिल जाएगी.

यह प्रयोग एक मल्टीनेशनल कंपनी के सहयोग से किया जा रहा है. जिसमें सरकार 10 पीएचसी पर ओपीडी स्थापित करेगी जिसमें आधुनिक मशीनें लगाई जाएंगी. पंजीकरण के लिए नर्स और मरीजों के खून का नमूना लेने के लिए लैब टेक्नीशियन तैनात किए जाएंगे और सभी पीएचसी सेंटर्स को कमान सेंटर से जोड़ा जाएगा. जहां से कैमरे की मदद से कमान सेंटर को मरीज अपनी बीमारी की जानकारी देंगे.

ऑटोमेटिक मशीनों से मरीज के बीपी और जरूरी जानकारी की रिपोर्ट कमांड सेंटर को मिलेगी और उसी के आधार पर कमांड सेंटर में बैठे हुए डॉ मरीज का इलाज करेंगे.

जानकारी के मुताबिक 10 जिलों में 11 अस्पतालों का चयन किया गया है जिसमें गोरखपुर की अर्बन हेल्थ पोस्ट रामपुर, वाराणसी की अर्बन हेल्थ पोस्ट, श्रावस्ती, बहराइच बलरामपुर, सिद्धार्थ नगर, चंदौली, सोनभद्र, चित्रकूट और फतेहपुर शामिल हैं.

इन सेंटर्स पर प्रयोग के तौर पर विदेशी मदद से लगने वाली ऑटोमेटिक मशीनें लगाई जाएंगी और उन्हीं के जरिए इलाज होगा.

योजना से जुड़े हुए अधिकारियों के मुताबिक यह प्रयोग इसलिए किया जा रहा है ताकि ग्रामीण इलाकों में भी मरीजों को बेहतर डॉक्टरों की सलाह से अच्छा इलाज मिल सके और अगर यह प्रयोग सफल होता है तो प्रदेश के ज्यादातर गांवों में इस तरह के पीएचसी सेंटर स्थापित किए जाएंगे. जिससे कि मरीजों को विदेशी इलाज मिल सके और इन सेंटर्स पर ज्यादा डॉक्टर की भर्ती भी न करनी पड़े.

Related News

Like Us

HEADLINES

अयोध्या पुलिस ने क्यों की है सोलह हज़ार स्वयंसेवियों की तैनाती, पढ़िए ख़बर | NewsRedbull | दो बार नोबेल जीतने वाली एकमात्र महिला हैं मैरी क्यूरी, इस खोज के चलते गई थी जान |NewsRedbull | पाक में हिंदू मेडिकल छात्रा की मौत की रिपोर्ट में खुलासा, पंखे पर लटकाने से पहले...पढ़िए ख़बर |NewsRedbull | जानिये क्यों मुरीद हुए है वीवीएस लक्ष्मण कानपुर के इस चाय बेचने वाले से ! NewsRedbull | बोले गोपाल कांडा- मेरी रगों में बहता है RSS का खून |NewsRedbull |