बड़ी ख़बर: मोबाइल के नशेड़ियों का मुफ्त इलाज कराएगी योगी सरकार,यहाँ खुला नशा मुक्ति केंद्र|UP|

Picture courtesy From Social Media : विशेषज्ञों का यह भी कहना है कि छोटे बच्चों को मोबाइल की लत लगाने में मां- बाप ही सबसे ज़्यादा ज़िम्मेदार हैं. बच्चा उनके काम व आराम में खलल न पैदा करे, इसके लिए मां- बाप खुद ही बच्चे को मोबाइल पकड़ा देते हैं. बाद में यही चीज नशे में तब्दील हो जाती है. मोबाइल फोन ज़िंदगी के लिए किस कदर खतरनाक होता जा रहा है, इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि मोतीलाल नेहरू अस्पताल में डॉ राकेश पासवान और डॉ ईशान्या राज के पास इलाज के तकरीबन अठारह और सोलह साल के दो ऐसे सगे भाई इलाज के लिए, जो आपस में एक दूसरे से कम्पटीशन करते हुए एक दिन में चौदह घंटे तक मोबाइल पर गेम खेलते थे.

By : News RedBull | Published On: Jul 14, 2019 |
292


बड़ी ख़बर: मोबाइल के नशेड़ियों का मुफ्त इलाज कराएगी योगी सरकार,यहाँ खुला नशा मुक्ति केंद्र|UP|

Image result for yogi sarkaar

प्रयागराज: Online DESk मौजूदा दौर में मोबाइल फ़ोन हमारी ज़रुरत बन चुका है.यह हमारा काम आसान कर रहा है तो साथ ही समूची दुनिया को मुट्ठी में कर लेने का बड़ा जरिया भी बना हुआ है. हालांकि तमाम फायदे पहुंचाने वाला यही मोबाइल फोन हमें नशे का आदी बना रहा है और हमें बीमार भी कर रहा है.

मोबाइल का नशा ड्रग्स और शराब से भी ज़्यादा खतरनाक होता जा रहा है और यह लोगों को मानसिक और शारीरिक दोनों तरह से बीमार कर रहा है. मोबाइल के नशे की गिरफ्त में आए लोगों को इस बुरी लत से छुटकारा दिलाने के लिए यूपी के स्वास्थ्य विभाग ने अनूठी पहल की है. इसके तहत प्रयागराज के मोतीलाल नेहरू मंडलीय अस्पताल में मोबाइल नशा मुक्ति केंद्र की शुरुआत की जा रही है.

Image result for मोबाइल के नशेड़ी

प्रयागराज में इसकी औपचारिक शुरुआत सोमवार से की जाएगी. शुरुआत में यह केंद्र राज्य स्तरीय होगा और इसके बेहतर नतीजे आने पर सूबे के दूसरे बड़े शहरों में भी इस तरह के केंद्र खोले जाने की योजना है. स्वास्थ्य विभाग के अफसरों का कहना है कि मौजूदा दौर में मोबाइल का नशा शराब ड्रग्स व सिगरेट वगैरह से ज़्यादा खतरनाक हो गया है. इसका सबसे बुरा असर छोटे बच्चों पर पड़ रहा है.

बच्चों की दुनिया मोबाइल फोन तक सीमित होकर रह जा रही है और उनमे चिड़चिड़ापन, नींद का न आना, भूख न लगना और आंख व सिर में दर्द की समस्या सामने आ रही है. अफसरों के मुताबिक़ इस तरह का सेंटर बेहद ज़रूरी हो गया था, क्योंकि मोबाइल की वजह से अक्सर ही कई गंभीर क़िस्म के मामले सामने आ रहे हैं.

Image result for मोबाइल के नशेड़ी

 

 

 

प्रयागराज के मोतीलाल नेहरू मंडलीय अस्पताल में मोबाइल की लत छुड़ाने की ओपीडी हफ्ते में तीन दिन सोमवार-बुधवार और शुक्रवार को चलेगी. ओपीडी सुबह आठ बजे से दोपहर दो बजे तक चलेगी. मोबाइल की लत छुड़ाने के लिए ख़ास तौर पर बनाए गए माइंड सेंटर यानी मन कक्ष में छह केबिन बनाई गई हैं.

Image result for मोबाइल के नशेड़ियों का मुफ्त इलाज

इसमें नशे की गंभीरता के आधार पर लोगों का अलग-अलग विशेषज्ञों द्वारा परीक्षण किया जाएगा. मनोवैज्ञानिकों की टीम उनकी काउंसलिंग करेगी तो साथ मनोचिकित्सकों व दूसरे डॉक्टर्स की टीम इलाज करेगी.ज़रुरत पड़ने पर ख़ास थेरेपी का भी इस्तेमाल किया जाएगा.

प्रयागराज में शुरू हो रहे मोबाइल नशा मुक्ति केंद्र में पांच स्पेशलिस्ट डॉक्टर्स की टीम हफ्ते में तीन दिन ओपीडी करेगी. गंभीर रूप से बीमार यानी मोबाइल के नशे की गिरफ्त में बुरी तरह कैद हो चुके लोगों का ख़ास तौर पर बनाए गए माइंड चैंबर यानी मन कक्ष में इलाज किया जाएगा. लोगों की काउंसलिंग की जाएगी तो साथ ही उन्हें उनकी बीमारी के हिसाब से दवाएं भी दी जाएंगी.

Image result for मोबाइल के नशेड़ी

पांच स्पेशलिस्ट डॉक्टर्स की टीम के अलावा आंख, दिमाग और जनरल फिजिशियन से अलग से चेकअप कराया जाएगा. मोबाइल के नशे की लत तीन चरणों में धीरे धीरे छुड़ाई जाएगी. देश में इस तरह के सेंटर्स के बारे में तो जानकारी नहीं, लेकिन उत्तर प्रदेश में मोबाइल के नशे से मुक्ति दिलाने का अपनी तरह का यह अनूठा व पहला सेंटर है.

Image result for मोबाइल के नशेड़ी

Related News

Like Us

HEADLINES

अयोध्या पुलिस ने क्यों की है सोलह हज़ार स्वयंसेवियों की तैनाती, पढ़िए ख़बर | NewsRedbull | दो बार नोबेल जीतने वाली एकमात्र महिला हैं मैरी क्यूरी, इस खोज के चलते गई थी जान |NewsRedbull | पाक में हिंदू मेडिकल छात्रा की मौत की रिपोर्ट में खुलासा, पंखे पर लटकाने से पहले...पढ़िए ख़बर |NewsRedbull | जानिये क्यों मुरीद हुए है वीवीएस लक्ष्मण कानपुर के इस चाय बेचने वाले से ! NewsRedbull | बोले गोपाल कांडा- मेरी रगों में बहता है RSS का खून |NewsRedbull |