प्रोटोकॉल तोड़ बच्चे के शव को पाक सेना को सौंपा, जज्बे को देखकर पाकिस्तान भी हुआ हैरान |NewsRedbull

Picture Courtesy From Social Media

By : News RedBull | Published On: Jul 13, 2019 |
241


प्रोटोकॉल तोड़ बच्चे के शव को पाक सेना को सौंपा, जज्बे को देखकर पाकिस्तान भी हुआ हैरान |NewsRedbull

 श्रीनगर ( 12 जुलाई): भारतीय सेना की बहादुरी और जांबाजी की कहानी दुनिया भर में मशहूर है। भारतीय सेना दुश्मनों के लिए जितना कठोर और बेरहम है वह इंसानियत और मानवता के मामले में उतना ही रहम दिल। इसका एक और उदाहरण जूम्मू-कश्मीर में गुरुवार को उस वक्त देखने को मिला जब पाक अधिकृत कश्मीर की ओर से नीलम नदी में एक आठ साल के बच्चे का शव बरामद हुआ।

मौके पर मौजूद सैन्यकर्मियों ने बच्चे के बारे में तफ्तीश की। तफ्तीश करने पर पता चला की बच्चा पीओके की तरफ से बहकर आया है। इसके बाद भारतीय सेना ने मानवता को सर्वोपरि रखते हुए प्रोटोकॉल तोड़कर बच्चे के शव को पाकिस्तान की सेना को सौंप दिया।

भारतीय सेना के इस पहल से मौके पर मौजूद पाक सैन्यकर्मी और स्थानीय लोग भी हैरान थे। मौके पर मौजूद तमाम लोगों ने तहे दिल से भारतीय सेना का शुक्रिया अदा किया।  

दरअसल जम्मू-कश्मीर के गुरेज सेक्टर में गुरुवार को बांदीपोरा जिले की किशनगंगा नदी में एक आठ साल के बच्चे का शव बरामद हुआ। यह बच्चा पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर निवासी था। पिछले कई दिनों से वह लापता था। भारतीय सेना ने मानवता को ध्यान में रखते हुए बच्चे के शव को बरामद कर पाकिस्तानी सेना के जरिए उसके परिवारिजनों को लौटाया है।

भारत-पाक सीमा पर कश्मीर के बांदीपोरा जिले के अचूरा गांव से बहने वाली किशनगंगा नदी में पीओके निवासी आठ वर्षीय आबिद शेख का शव बरामद हुआ। स्थानीय लोगों ने नदी में शव तैरता देख पुलिस और स्थानीय प्रशासन को इसकी सूचना दी। जिसके बाद मौके पर पहुंची सेना ने शव को नदी से बाहर निकाला।

शव का हुलिया देखकर उसकी पहचान पाक निवासी के रूप में की गयी। मानवीयता को सर्वोप‍रि रखते हुए भारतीय सेना ने बच्‍चे को शव को पाक के हवाले करने का फैसला किया। भारतीय सेना ने इसकी सूचना हॉटलाइन पर पाकिस्तान प्रशासन को दी। जिसके बाद बच्चे की पहचान गिलगिट के मूल निवासी के रूप में हुई।

मृत बच्चे के परिवारिजनों ने भारतीय सेना से उसके शव को वापस लौटने की मांग की। जिसके बाद सेना ने निर्धारित प्रोटोकॉल तोड़कर पाकिस्तान सेना से फ्लैग मीटिंग करके बच्चे के शव को उन्हें सौंप दिया। मृत बच्चे के परिवार ने भारतीय सेना के प्रति आभार व्यक्त किया।  

ऐसा पहली बार नहीं हो हुआ है जब भारतीय सेना ने मानवता पेश किया है। अकसर नदी से बहकर आने वाले शवों को भारतीय सेना पाकिस्तान को सौंप देती है। इस सात साल के बच्चे के माता पिता ने भारतीय सेना से बच्चे के शव को तुरंत देने की अपील की और भारतीय सेना ने मानवीय आधार पर तत्काल मान लिया गया।

Related News

Like Us

HEADLINES

अयोध्या पुलिस ने क्यों की है सोलह हज़ार स्वयंसेवियों की तैनाती, पढ़िए ख़बर | NewsRedbull | दो बार नोबेल जीतने वाली एकमात्र महिला हैं मैरी क्यूरी, इस खोज के चलते गई थी जान |NewsRedbull | पाक में हिंदू मेडिकल छात्रा की मौत की रिपोर्ट में खुलासा, पंखे पर लटकाने से पहले...पढ़िए ख़बर |NewsRedbull | जानिये क्यों मुरीद हुए है वीवीएस लक्ष्मण कानपुर के इस चाय बेचने वाले से ! NewsRedbull | बोले गोपाल कांडा- मेरी रगों में बहता है RSS का खून |NewsRedbull |