जलियांवाला बाग हत्याकांड: ब्रिटेन ने फिर मांगी माफी, उच्‍चायुक्‍त ने लिखी ये बड़ी बात|NewsRedbull

Picture Courtesy From Social Media

By : News RedBull | Published On: Apr 13, 2019 |
218


जलियांवाला बाग हत्याकांड: ब्रिटेन ने फिर मांगी माफी, उच्‍चायुक्‍त ने लिखी ये बड़ी बात|NewsRedbull

नई दिल्ली(13 अप्रैल): जलियांवाला बाग नरसंहार की 100वीं बरसी पर ब्रिटिश सरकार ने एक बार फिर माफी मांगी है और इसे शर्मनाक घटना करार दिया है। भारत में ब्रिटिश उच्‍चाुयक्‍त डोमिनक एक्‍यूथ ने कहा कि 100 साल पहले हुई यह घटना एक बड़ी त्रासदी थी। यहां जो भी हुआ उसका हमें हमेशा खेद रहा है। यह बेहद शर्मनाक था।

तीन दिन पहले ब्रिटिश सरकार ने इस नससंहार के लिए माफी मांगी थी।  ब्रिटिश संसद में प्रधानमंत्री ने दुखद कांड पर खेद व्यक्त कर चुके हैं। उन्‍होंने लिया कि हम इतिहास को दोबारा नहीं लिख सकते। उच्‍चायुक्‍त ने जलियांवाला बाग केविजिटर बुक पर लिखा हम भारत और ब्रिटेन के बीच मजबूत रिलेशनशिप चाहते हैं। 2014 में जब डेविड कैमरून जलियांवाला बाग आए थे उन्होंने भी खूनी का खूनी कांड को शर्मनाक बताया था।

बता दें कि अमृतसर के जलियांवाला बाग के नरसंहार कांड के आज यानी शनिवार को 100 साल पूरे हुए हैं। प्रधानमंत्री मोदी ने ट्ववीट कर शहीदों को श्रद्धांजलि दी। इस मौके पर वहां एक खास कार्यक्रम आयोजित किया गया, जिसमें शहीदों को श्रद्धांजलि दी गई। इस मौके पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने अमृतसर पहुंचे। राहुल ने शनिवार सुबह 8 बजे शहीदों को श्रद्धांजलि दी। 

 

इससे पहले शुक्रवार देर रात अमृतसर पहुंचे राहुल गांधी ने श्री अकाल तख्त गोल्डन टैम्पल में माथा टेका। इस दौरान उनके साथ पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह भी मौजूद रहे। शनिवार को जलियांवाला बाग के शहीदों को श्रद्धांजलि देने के लिए शताब्दी समारोह का आयोजन किया जा रहा है। 

क्या है जलियांवाला बाग हत्याकांड

देश की आजादी के इतिहास में 13 अप्रैल का दिन एक दुखद घटना के साथ दर्ज है। वह साल 1919 का 13 अप्रैल का दिन था, जब जलियांवाला बाग में एक शांतिपूर्ण सभा के लिए जमा हुए हजारों भारतीयों पर अंग्रेज हुक्मरान ने अंधाधुंध गोलियां बरसाई थीं। उस दिन बैसाखी थी. एक बाग़ में करीब 15 से बीस हज़ार हिंदुस्तानी इकट्ठा थे। सब बेहद शांति के साथ सभा कर रहे थे। ये सभा पंजाब के दो लोकप्रिय नेताओं की गिरफ्तारी और रोलेट एक्ट के विरोध में रखी गई थी.

जालियांवाला बाग: वहशियत जिसपर 100 साल बाद ब्रिटेन को आई शर्म |NewsRedbull

पर इससे दो दिन पहले अमृतसर और पंजाब में ऐसा कुछ हुआ था, जिससे ब्रिटिश सरकार गुस्से में थी।
इसी गुस्से में ब्रिटिश सरकार ने अपने जल्लाद अफसर जनरल डायर को अमृतसर भेज दिय़ा। जनरल डायर 90 सैनिकों को लेकर शाम करीब चार बजे जलियांवाला बाग पहुंचता है। डायर ने सभा कर रहे लोगों पर गोली चलवा दी। बताते हैं कि 120 लाशें तो सिर्फ उस कुएं से बाहर निकाली गई थी जिस कुएं में लोग जान बचाने के लिए कूदे थे।

कहते ये भी हैं कि करीब दस मिनट में 1650 राउंड गोलियां चलाने के बाद जनरल डायर इसलिए रुक गया था क्योंकि उसके सैनिकों की गोलियां खत्म हो गई थीं। अंग्रेजों के आंकड़े बताते हैं कि जलियांवाला बाग कांड में 379 लोग मारे गए थे।

-----------------------------------------------------

ब्रिटेन की प्रधानमंत्री थेरेसा मे ने 10 अप्रैल को इस घटना के लिए पश्चाताप प्रकट किया. थेरेसा में ने इस घटना को ब्रिटेन के भारतीय इतिहास का शर्मनाक अध्याय करार दिया. हालांकि उन्होंने इस घटना के लिए औपचारिक माफी नहीं मांगी.

ब्रिटेन की सांसद हाउस ऑफ कॉमंस में थेरेसा मे ने कहा, " 1919 का जालियांवाला बाग कांड ब्रिटिश इंडियन इतिहास पर शर्मनाक दाग है, जैसा कि महारानी एलिजाबेथ द्वितीय ने 14 अक्टूबर 1997 में जालियांवाला बाग दौरे के पहले कहा था यह हमारे भारत के साथ इतिहास का दुखद उदाहरण है."

साल 1919 में बैसाखी 13 अप्रैल को थी. पंजाब समेत देश के अलग-अलग हिस्सों से लोग अमृतसर पहुंचे थे. अमृतसर में एक दिन पहले ही ब्रिटिश हुकुमत ने कर्फ्यू लगा दिया. सरकार ने ऐलान कर दिया कि लोग इकट्ठा नहीं हो सकते हैं. फिर आई बैसाखी की सुबह. गोल्डन टेंपल में दर्शन के बाद धीरे-धीरे लोग जालियांवाला बाग में जुटने लगे. कुछ वक्त में हजारों की भीड़ इकट्ठा हो चुकी थी.meuip.co

Related News

Like Us

HEADLINES

बॉलीवुड को एक और बड़ा झटका, मशहूर कोरियोग्राफर का निधन | BREAKING कानपुर: बदमाशों से मुठभेड़ में सीओ समेत 8 पुलिसकर्मी शहीद | कराची स्टॉक एक्सचेंज पर आतंकी हमला, हुयी मौतें, नहीं पहुंच पाए ट्रेडिंग हॉल तक | मायावती की दो टूक: कांग्रेस के लोग करते हैं बेहूदी बातें, इस मुद्दे पर हम है BJP के साथ! | कोरोना से लेकर लद्दाख, पढ़ें PM मोदी के संबोधन की 10 बड़ी बातें ! |