"UP के 86 एसडीएम में 56 यादव पर बवाल तो 61 जजों में 52 सवर्ण पर चुप्पी क्यों?"

Picture courtesy from social media

By : News RedBull | Published On: Mar 23, 2019 |
1084


"UP के 86 एसडीएम में 56 यादव पर बवाल तो 61 जजों में 52 सवर्ण पर चुप्पी क्यों?"

Lucknow: Desk राष्ट्रीय निषाद संघ के सचिव चौधरी लौटन राम निषाद ने कहा है कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) ने सुनियोजित और कूटरचित तरीके से मीडिया में यह खबर फैलाई है कि लोक सेवा आयोग के अध्यक्ष और सचिव अनिल यादव ने 86 एसडीएम में 56 सिर्फ यादवों को चयनित करा दिया।

इसके बाद आरएसएस कार्यकर्ताओं ने रातों-रात यूपी लोक सेवा आयोग को यादव आयोग लिख दिया।

निषाद ने अपने बयान में कहा, “गैर यादव पिछड़ी जातियों में यादवों के प्रति नफरत भड़का कर भाजपा ने इनका वोट बैंक हथिया कर सत्ता को प्राप्त कर लिया जबकि सच्चाई यह रही कि अनिल यादव के कार्यकाल में कुल 98 एसडीएम चयनित हुए, जिसमें मात्र 14 यादव और 29 गैर यादव पिछड़ी जातियों के हुए थे।

अभी 24 मार्च, 2017 को उच्च न्यायिक सेवा का परिणाम घोषित हुआ है, जिसमें 61 जजों में 52 सवर्ण चयनित हुए हैं जबकि एक पिछड़े मुस्लिम सहित कुल नौ पिछड़े चयनित हुए हैं। क्या यह सवर्णवाद नहीं है?”

उन्होंने कहा कि जब 86 एसडीएम में 56 यादव चयनित होने का झूठा मुद्दा उठाकर बवाल मचाया गया और गैर यादव पिछड़ी जातियों में यादवों के प्रति नफरत पैदा कराई गई तो 61 जजों में 52 सिर्फ सवर्ण जाति के चयनित हुए हैं, इस पर चुप्पी क्यों साधी गई है।

निषाद ने कहा, “एसडीएम चयन में और अन्य नौकरियों में सिर्फ यादवों की भर्ती का जो माहौल बनाकर गैर यादव पिछड़ी, अतिपिछड़ी जातियों में नफरत पैदा की गई और लोक सेवा आयोग के बोर्ड पर यादव सेवा आयोग लिखा गया, उत्तर प्रदेश सरकार उन नौकरियों पर श्वेत पत्र जारी करे।”

उन्होंने बताया, “माननीय उच्चतम न्यायालय के निर्णय के बाद 1993 में मंडल कमीशन के तहत अन्य पिछड़े वर्ग की जातियों को शिक्षा और सेवायोजन में 27 प्रतिशत आरक्षण दिया गया लेकिन अभी भी इन्हें मात्र 8.6 प्रतिशत ही प्रतिनिधित्व मिल पाया है।

आखिर इसका क्या कारण है? क्या केंद्र सरकार अन्य पिछड़े वर्ग के लिए बैकलॉग भर्ती शुरू कर इनका कोटा पूरा करेगी? क्या अपने को पिछड़ी जाति का बताने वाले मोदी जी ओबीसी की जनगणना रिपोर्ट उजागर करेंगे?”

Related News

Like Us

HEADLINES

अयोध्या पुलिस ने क्यों की है सोलह हज़ार स्वयंसेवियों की तैनाती, पढ़िए ख़बर | NewsRedbull | दो बार नोबेल जीतने वाली एकमात्र महिला हैं मैरी क्यूरी, इस खोज के चलते गई थी जान |NewsRedbull | पाक में हिंदू मेडिकल छात्रा की मौत की रिपोर्ट में खुलासा, पंखे पर लटकाने से पहले...पढ़िए ख़बर |NewsRedbull | जानिये क्यों मुरीद हुए है वीवीएस लक्ष्मण कानपुर के इस चाय बेचने वाले से ! NewsRedbull | बोले गोपाल कांडा- मेरी रगों में बहता है RSS का खून |NewsRedbull |