महज 21 साल की उम्र में ये खूबसूरत लड़की बन गई साध्वी ! NewsRedbull

Picture courtesy from social media

By : News RedBull | Published On: Dec 31, 2018 |
513


महज 21 साल की उम्र में ये खूबसूरत लड़की बन गई साध्वी ! NewsRedbull

जयपुर: बच्चे बचपन से ही सपने देखते है कि बड़े होकर उन्हें क्या बनना है जैसे अमूमन आप किसी बच्चे से पूछेंगे की वो बड़े होकर क्या बनना चाहते है तो आपको डॉक्टर , इंजीनियर , एक्टर , एक्ट्रेस , बिज़नेस मैन आदि जैसे जवाब मिलेंगे। पर आज जिस लड़की के बारे में हम आपको बता रहे है उन्होंने ऐसा कोई सपना नहीं देखा। बल्कि उन्होंने धर्म की राह चुनी। 

Image result for जया किशोरी जी

दरअसल  इस लड़की ने ऐसा क्यों किया, आखिर क्यों इस लड़की ने सब कुछ छोड़ कर ये रास्ता चुना ये सब जानने के लिए आपको इस की कहानी को विस्तार से पढ़ना होगा। अब जाहिर सी बात है कि जब तक व्यक्ति के जीवन में कोई बड़ा हादसा नहीं होता, तब तक व्यक्ति की जिंदगी ऐसा मोड़ नहीं लेती। बरहलाल इस लड़की के साथ भी कुछ ऐसा ही हुआ है। 

जया कोई साधु या संत नहीं हैं वे केवल एक साधारण स्त्री है| वे एक कथावाचक भजन गायिका है.

Image result for जया किशोरी जी

जया किशोरी का जन्म राजस्थान के सुजानगढ़ गाँव में हुआ है वे एक गौड़ ब्रह्माण्ड परिवार में जन्मी है, जन्म के उपरांत ही बताया गया था की उनका जन्म चन्द्रवंश में हुआ है जो की बहुत ही किस्मत वालों को ऐसा अवसर प्राप्त होता है.

Girl became sadhvi

जी हाँ हम बात कर रहे है जया किशोरी जी Jaya Kishori की जो महज 21 साल की उम्र में साधु बन गयी और लोगों को धर्म का रास्ता दिखा रही है। इसके इलावा यह लड़की राजस्थान की रहने वाली है। वही अगर इसकी खूबसूरती की बात की जाएँ तो यह देखने में भी किसी मॉडल से कम नहीं लगती। मगर इसके बावजूद भी इसने सब कुछ पीछे छोड़ कर साधु बनना ही बेहतर समझा। गौरतलब है कि जया किशोरी का जन्म तरह जुलाई 1996 को राजस्थान के सुजानगढ़ शहर में हुआ था। इसके इलावा आपको जान कर ताज्जुब होगा कि जया किशोरी को बचपन से ही भगवान् में काफी आस्था थी।

जया किशोरी Jaya Kishori जी को देखकर आप सोचेंगे की रंग रूप में इतना भाग्यवान होने के बावजूद ये सांसारिक सुखों के चक्कर में कैसे नहीं पड़ी। जिस उम्र में लड़कियां सुंदरता और अपने रूप रंग की वाहवाही सुनना चाहती है, मॉडलिंग और एक्टिंग की दुनिया की तरफ भागती है वहीँ इन्होने सब कुछ पीछे छोड़ कर साधु बनना ही बेहतर समझा।

जया किशोरी का जन्म तरह जुलाई 1996 को राजस्थान के सुजानगढ़ शहर में हुआ था। आपको जान कर ताज्जुब होगा कि जया किशोरी Jaya Kishori को बचपन से ही भगवान् में काफी आस्था थी। जवान उम्र में साधू बनना उनके लिए बेहद कड़ा फैसला रहा और पहले उनके घरवालों के अपनी बच्ची के फैसले को मानने में कठिनाई जताई पर फिर इसके बाद उन्होंने हाँ कर दिया।

Related News

Like Us

HEADLINES

अयोध्या पुलिस ने क्यों की है सोलह हज़ार स्वयंसेवियों की तैनाती, पढ़िए ख़बर | NewsRedbull | दो बार नोबेल जीतने वाली एकमात्र महिला हैं मैरी क्यूरी, इस खोज के चलते गई थी जान |NewsRedbull | पाक में हिंदू मेडिकल छात्रा की मौत की रिपोर्ट में खुलासा, पंखे पर लटकाने से पहले...पढ़िए ख़बर |NewsRedbull | जानिये क्यों मुरीद हुए है वीवीएस लक्ष्मण कानपुर के इस चाय बेचने वाले से ! NewsRedbull | बोले गोपाल कांडा- मेरी रगों में बहता है RSS का खून |NewsRedbull |