कश्मीरी हिंदुओं की मांग,PoK में मौजूद शारदा मंदिर के लिए बने गलियारा |NewsRedbull

Picture Courtesy From Social Media शारदा मंदिर पीओके में नीलम नदी के पास मौजूद है. ये मंदिर दक्षिण एशिया के 18 खास मंदिरों में से एक है. ये जगह नालंदा और तक्षशिला की तरह ही शिक्षा का बड़ा केंद्र भी रही है.

By : News RedBull | Published On: Nov 27, 2018 |
267


कश्मीरी हिंदुओं की मांग,PoK में मौजूद शारदा मंदिर के लिए बने गलियारा |NewsRedbull

पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में मौजूद ये है शारदा पीठ, जो अनदेखी के चलते खंडहर हो चुकी है। नीलम नदी के किनारे पर मौजूद ये मंदिर सरस्वती देवी का है। 1948 के बाद से इस मंदिर की बमुश्किल ही कभी मरम्मत हुई। इस मंदिर की महत्ता सोमनाथ के शिवा लिंगम मंदिर जितनी है। हालांकि, अब यहां मुश्किल से ही हिंदू पहुंचते हैं।

Image result for शारदा मंदिर पीओके में नीलम नदी के पास मौजूद है.

नई दिल्ली: करतारपुर कॉरिडोर के शिलान्यास के बाद अब कश्मीरी हिंदुओं ने पीओके यानी पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में मौजूद शारदा मंदिर के गलियारे को खोलने की मांग तेज कर दी है.

कश्मीरी हिंदू संगठन ने करतारपुर साहिब गुरुद्वारा कॉरिडोर की तर्ज पर पीओके में भी श्रद्धालुओं के लिए गलियारा बनाने की मांग की है.

संगठन के प्रमुख विनोद पंडित इस मुद्दे पर पीएम मोदी और पूर्व सीएम महबूबा मुफ्ती से भी मुलाकात कर चुके हैं. पंडित ने कहा,‘‘हम सिख श्रद्धालुओं के सुगम आवागमन के लिए करतारपुर साहिब गुरूद्वारा के लिए गलियारा बनाये जाने के सरकार के फैसले का स्वागत करते हैं.

Image result for शारदा मंदिर पीओके में नीलम नदी के पास मौजूद है.

''हम शारदा देवी मंदिर के लिए गलियारा बनाये जाने के लिए सरकार से इसी तरह का कदम उठाये जाने का आग्रह करते हैं ताकि हिंदू तीर्थयात्री भी वहां आसानी से पहुंच सकें.’’

शारदा मंदिर पीओके में नीलम नदी के पास मौजूद है. ये मंदिर दक्षिण एशिया के 18 खास मंदिरों में से एक है. ये जगह नालंदा और तक्षशिला की तरह ही शिक्षा का बड़ा केंद्र भी रही है.

चार महीने में बनेगा करतापुर कॉरीडोर
करोड़ो सिखों की धार्मिक भावनाओं से जुड़ा करतारपुर साहिब गुरुद्वारा कॉरिडोर का शिलान्यास कल उपराष्ट्रपति वैंकेया ने कर दिया है. परिवहन मंत्रालय ने इस कॉरिडोर को पूरा करने के लिए सिर्फ चार महीने का लक्ष्य रखा है. करतारपुर गलियारे के लिए डेराबाबा नानक से करीब 4 किलोमीटर लंबी चार लेन वाली सड़क बनाई जाएगी.

क्या है मान्यता?

- मान्यता है कि जहां इस शक्तिपीठ की स्थापना हुई है, वहां पर देवी सती के शरीर का कोई अंग गिरा था।
- शारदा पीठ 18 महाशक्ति पीठों में से एक है। कहा जाता है कि यहां देवी का दायां हाथ गिरा था।
- इस मंदिर को ऋषि कश्यप के नाम पर कश्यपपुर के नाम से भी जाना जाता था।
- एक दौर में कश्मीर हिंदू वैदिक धर्म से जुड़ी लर्निंग के लिए बेहतरीन सेंटर था।

Image result for शारदा मंदिर पीओके में नीलम नदी के पास मौजूद है.

कैसे इस हाल में पहुंच गया मंदिर...

- ये मंदिर कई सौ साल पुराना है। 14वीं सदी में इसके खंडहर हो जाने पर इसकी दोबारा मरम्मत कराई गई। 
- इसके बाद 19वीं सदी में महाराजा गुलाब सिंग ने इसकी आखिरी बार मरम्मत कराई और तब से ये इसी हाल में है।
- 2005 में आए भूकंप में ये और तबाह हो गया, इसके बाद भी पाकिस्तान सरकार ने इसकी सुध नहीं ली।
- भारत-पाकिस्तान के बीच बंटवारे के बाद से ये लाइन ऑफ कंट्रोल के पास वाले हिस्से में आता है। 
- बंटवारे के बाद से ये जगह पश्तून ट्राइब्स के कब्जे में रही। इसके बाद से ये पीओके सरकार के कब्जे में है।
- दोनों देशों के बीच तनाव के वक्त में यहां फॉरेनर्स के जाने पर पाबंदी लगा दी जाती है।

Related News

Like Us

HEADLINES

अयोध्या पुलिस ने क्यों की है सोलह हज़ार स्वयंसेवियों की तैनाती, पढ़िए ख़बर | NewsRedbull | दो बार नोबेल जीतने वाली एकमात्र महिला हैं मैरी क्यूरी, इस खोज के चलते गई थी जान |NewsRedbull | पाक में हिंदू मेडिकल छात्रा की मौत की रिपोर्ट में खुलासा, पंखे पर लटकाने से पहले...पढ़िए ख़बर |NewsRedbull | जानिये क्यों मुरीद हुए है वीवीएस लक्ष्मण कानपुर के इस चाय बेचने वाले से ! NewsRedbull | बोले गोपाल कांडा- मेरी रगों में बहता है RSS का खून |NewsRedbull |