इतिहास में पहली बार सुप्रीम कोर्ट के जजों ने की पीसी, कहा- SC में सबकुछ ठीक नहीं | NewsRedbull

Picture courtesy from Social Media

By : News RedBull | Published On: Jan 12, 2018 |
36

इतिहास में पहली बार सुप्रीम कोर्ट के जजों ने की पीसी, कहा- SC में सबकुछ ठीक नहीं | NewsRedbull

नई दिल्ली ( 12 जनवरी ): देश में पहली बार न्यायपालिका में शुक्रवार को असाधारण स्थिति पैदा हो गई। सुप्रीम कोर्ट के मौजूदा 4 जजों ने प्रेस कांफ्रेंस कर हलचल मचा दी। चीफ जस्टिस के बाद सुप्रीम कोर्ट के 4 वरिष्ठ जजों जस्टिस चेलमेश्वर, जस्टिस मदन लोकुर, जस्टिस कुरियन जोसेफ, जस्टिस रंजन गोगोई ने मीडिया से शीर्ष अदालत के प्रशासन में अनियमितताओं पर सवाल खड़े किए। देश में यह पहली बार है जब जजों ने मीडिया को संबोधित किया है।  
 चीफ जस्टिस के बाद दूसरे सबसे वरिष्ठ जज जस्टिस चेलमेश्वर ने कहा, 'करीब दो महीने पहले हम 4 जजों ने चीफ जस्टिस को पत्र लिखा और मुलाकात की। हमने उनसे बताया कि जो कुछ भी हो रहा है, वह सही नहीं है। प्रशासन ठीक से नहीं चल रहा है। यह मामला एक केस के असाइनमेंट को लेकर था।'  उन्होंने कहा कि कभी-कभी होता है कि देश के सुप्रीम कोर्ट की व्यवस्था भी बदलती है। सुप्रीम कोर्ट का प्रशासन ठीक तरीके से काम नहीं कर रहा है, अगर ऐसा चलता रहा तो लोकतांत्रिक परिस्थिति ठीक नहीं रहेगी। उन्होंने कहा कि हमने इस मुद्दे पर चीफ जस्टिस से बात की, लेकिन उन्होंने हमारी बात नहीं सुनी।  
जस्टिस चेलमेश्वर कहा कि अगर हमने देश के सामने ये बातें नहीं रखी और हम नहीं बोले तो लोकतंत्र खत्म हो जाएगा। हमने चीफ जस्टिस से अनियमितताओं पर बात की। उन्होंने बताया कि हम सभी चार जजों ने चीफ जस्टिस को एक पत्र लिखा था जो कि प्रशासन के बारे में थे, हमने कुछ मुद्दे उठाए थे।  चीफ जस्टिस पर देश को फैसला करना चाहिए, हम बस देश का कर्ज अदा कर रहे हैं। जजों ने कहा कि हम नहीं चाहते कि हम पर कोई आरोप लगाए। 

पहली बार है कि सुप्रीम कोर्ट के मौजूदा जज प्रेस कांफ्रेंस कर रहे हैं। प्रेस कॉन्फ्रेंस में जस्टिस चेलमेश्वर, जस्टिस रंजन गोगोई, जस्टिस मदन लोकुर और जस्टिस कुरियन जोसेफ शामिल थे।   हालांकि जजों ने यह नहीं बताया कि वह किस मुद्दे की बात कर रहे हैं। जस्टिस चेलमेश्वर और जस्टिस कुरियन जोसेफ ने कहा कि हम वह पत्र सार्वजनिक करेंगे, जिससे पूरी बात स्पष्ट हो जाएगी। चेलमेश्वर ने कहा, '20 साल बाद कोई यह न कहे कि हमने अपनी आत्मा बेच दी है। इसलिए हमने मीडिया से बात करने का फैसला किया।' चेलमेश्वर ने कहा कि भारत समेत किसी भी देश में लोकतंत्र को बरकरार रखने के लिए यह जरूरी है कि सुप्रीम कोर्ट जैसी संस्था सही ढंग से काम करे।   जस्टिस चेलमेश्वर ने कहा कि यह खुशी की बात नहीं है कि हमें प्रेस कॉन्फ्रेंस बुलानी पड़ी है। सुप्रीम कोर्ट का प्रशासन सही से नहीं चल रहा है। बीते कुछ महीनों में वे चीजें हुई हैं, जो नहीं होनी चाहिए थीं। 

Related News

Like Us

क्रिकेट स्कोर्स और भी

HEADLINES

हाईकोर्ट ने PMO पर लगाया 5000 रुपये का हर्जाना, पढ़िए पूरा मामला | NewsRedbull | 'गुंडों' सरेंडर करो या गोली खाओ की CM योगी की मुहीम को झटका, मुठभेड़ में मासूम की मौत | NewsRedbull | लखनऊ: रेयान इंटरनेशनल स्कूल जैसी घटना, छात्र को टॉयलेट में बंधक बनाकर चाकू से किए ताबड़तोड़ वार NewsRedbull | वाराणसी विकास प्राधिकरण है सूरदास: संवेदनशील काशी विश्वनाथ मंदिर के पास 7000 फीट का अवैध 'अंडरग्राउंड निर्माण' | NewsRedbull | KANPUR : 100 करोड़ के पुराने नोट मिलने से सनसनी | NewsRedbull |