तब कोई सिकंदर बनता है, जानिये क्या दे गया वो ज्ञान मरते समय आने वाली पीढियों को

Picture Courtesy from social media.

By : News RedBull | Published On: Sep 30, 2017 |
1816

तब कोई सिकंदर बनता है, जानिये क्या दे गया वो ज्ञान मरते समय आने वाली पीढियों को

Image result for sikandar mahaan 
सिकंदर (२० जुलाई ३५६ ईसापूर्व से ११ जून ३२३ ईसा पूर्व) मकदूनियाँ, (मेसेडोनिया) का ग्रीक प्रशासक था। वह एलेक्ज़ेंडर तृतीय तथा एलेक्ज़ेंडर मेसेडोनियन नाम से भी जाना जाता है। इतिहास में वह सबसे कुशल और यशस्वी सेनापति माना गया है। अपनी मृत्यु तक वह उस तमाम भूमि को जीत चुका था जिसकी जानकारी प्राचीन ग्रीक लोगों को थी। इसीलिए उसे विश्वविजेता भी कहा जाता है। उसने अपने कार्यकाल में इरान, सीरिया, मिस्र, मसोपोटेमिया, फिनीशिया, जुदेआ, गाझा, बॅक्ट्रिया और भारत में पंजाब तक के प्रदेश पर विजय हासिल की थी। 

उल्लेखनीय है कि उपरोक्त क्षेत्र उस समय फ़ारसी साम्राज्य के अंग थे और फ़ारसी साम्राज्य सिकन्दर के अपने साम्राज्य से कोई ४० गुना बड़ा था। फारसी में उसे एस्कंदर-ए-मक्दुनी (मॅसेडोनिया का अलेक्ज़ेंडर) औऱ हिंदी में सिकंदर महान कहा जाता है। सिकन्दर भारतीय अभियान पर ३२७ ई. पू. में निकला। ३२६ ई. पू. में सिन्धु पार कर वह तक्षशिला पहुँचा। वहाँ के राजा आम्भी ने उसकी अधिनता स्वीकार कर ली। 

पश्चिमोत्तर प्रदेश के अनेक राजाओं ने तक्षशिला की देखा देखी आत्म समर्पण कर दिया। वहाँ से पौरव राज्य की तरफ बढ़ा जो झेलम और चेनाब नदी के बीच बसा हुआ था। युद्ध में पुरू पराजित हुआ परन्तु उसकी वीरता से प्रभावित होकर सिकन्दर ने उसे अपना मित्र बनाकर उसे उसका राज्य तथा कुछ नए इलाके दिए। यहाँ से वह व्यास नदी तक पहुँचा, परन्तु वहाँ से उसे वापस लौटना पड़ा। उसके सैनिक मगध के नंद शासक की विशाल सेना का सामना करने को तैयार न थे। वापसी में उसे अनेक राज्यों (शिवि, क्षुद्रक, मालव इत्यादि) का भीषण प्रतिरोध सहना पड़ा। ३२५ ई. पू. में भारतभुमि छोड़कर सिकन्दर बेबीलोन चला गया। जहाँ उसकी मृत्यु हुई।

कहते हैं जब सिकंदर की मौत करीब थी और इसका अहसास उसको हो चुका था तब सिकंदर ने अपने सभी दरबारियों को बुलवाया और फ़रमान जारी किया कि उसके द्वारा लूटे गए सब हीरे जवाहरात उसकी मौत हो जाने पर उसके साथ ले जाने का प्रबंध किया जाए , जब दरबारियों ने ये बताया कि यह संभव नही है तब सिकंदर फूट-फूट कर रोया।अब सिकंदर रो रहा था, एक विश्व विजेता जिसकी तलवार से बड़े बड़े राजा महराजा अपनी सल्तनत छोड़कर भाग जाते थे, आज अपने ही महल के दरबारियों के सामने रो रहा था। महान सिकंदर ने अपनी मौत के जरिये संदेश दिया कि जिस हीरे जवाहरात के लिए उसने लाखों लोंगो के खून बहा दिए वो सब यहीं रह जाएगा। उसने अपने जीवन मे लोंगो की सेवा का मौका गवा दिया था। सिकंदर रोया था और इसी अफसोस के कारण रोया था।
Image result for sikandar mahaan

सिकंदर का अज़म दुनियां को फ़तेह करना था जो उसने की, सिकंदर की कुल आयु जैसा की इतिहास में लिखा है 32 साल 6 महिने और 8 दिन थी, इतनी कम आयु में वह विश्व विजेता बना| सिकंदर यूनानी नस्ल का बहुत तकाकतवर सालार था| उसका नाम सुनकर विरोधियों में खौफ पैदा हो जाता था, फौजें मैदान छोड़कर भाग जाती थीं|
 
 
खुद पर यकीन और सामने वाले के जहन को पढ़ने की सलाहियत हो तब एक इंसान सिकंदर बनता है
.


Image result for sikandar mahaan
सिकंदर की रफ़्तार और जीत के सिलसिले पर उस वक़्त रोक लग गयी जब उसे फारस में जंग के दरम्यान तेज़ बुखार ने गिरफ्त में ले लिया।

बुखार की शिद्दत यह थी कि सिकंदर ए आज़म को किसी रुख चैन नही मिल रहा था , वह नँगी तलवार लिए घायल भेड़िया की तरह खेमे के पर्दे फाड़ रहा था , और चीख रहा था ,
कई बेहतरीन तबीब जो उसका इलाज़ करने में नाकाम हो गए उनकी गर्दने उड़ा चूका था ,, इस वजह से अब न कोई हकीम डर की वजह से आ रहा था और न सिकंदर को चैन आ रहा था ,
अचानक एक बुजुर्ग ने सिकंदर के एक सिपाही से संपर्क किया और कहा कि वह बादशाह को ठीक कर सकता है ,,
सिपाही ने कहा , दिवाने , ख़ुदकुशी को निकले हो क्या , बादशाह कितने ही ताबिबो को मार चूका है।
हाक़िम बुजुर्ग ने कहा अगर तू मुझे तुरंत नही ले गया तो मै तेरी शिकायत करूँगा।
सिपाही डर की वजह से हाक़िम को लेकर चल दिया , और खेमे के सामने खड़े सिपाहियों के सुपर्द करदिया। सारा माजरा सुनने के बाद दरवाजे पर खड़े सिपाही ने अंदर जाने की हिम्मत न हुई तो बाहर से तेज़ आवाज़ में बोला , बादशाह सलामत कोई तबीब आये हैं जो आपका इलाज़ करना चाहते हैं।
बादशाह बोला जल्दी अंदर भेजो।
हाकिम ने अंदर जा कर देखा तो पूरा खेमा तहस नहस हुआ पड़ा है , बादशाह कर्ब से चीख रहा है।
तबीब ने बादशाह को शांत किया और नब्ज़ देख कर दवाई पीसना शुरू कर दिया ,
तबीब बार बार सिकंदर की तरफ देखता और दवाई पीसता रहा , सिकंदर भी उसे एक टक ताके जा रहा था।
जब दवाई तैयार हुई तो उसे छान कर अर्क निकाल कर एक प्याले में बादशाह को पीने के लिये दिया , सिकंदर होंटों की तरफ प्याले को ले जा रहा था कि एक सैनिक बदहवासी लिए खेमे में घुसा , सिकंदर गुस्से से तिलमिला गया , सिपाही बुरी तरह हांफ रहा था और कुछ भी बोलने की हालत में नही था , देख कर साफ़ पता चल रहा था कि मुसलसल कई रातें चलने से उसका यह हाल है ,
बस उसने बेहोशी से पहले हाथ में पकड़ा खत सिकंदर को दे दिया ।

अब सिकंदर एक हाथ में प्याला था और एक हाथ में खत ,, वह कभी खत को पढ़ने लगता तो कभी हकीम की तरफ देखने लगता।

हाकिम ने उत्सुकता से पूछा , बादशाह सलामत क्या लिखा है इस खत में ।
सिकंदर ने वह खत हकीम को दिया और प्याला पी  लिया।
हकीम ने खत पढ़ा तो ऑंखें खुली रह गयी।
खत हकीम के बारे में ही था , जिसमे लिखा था के तबीब के रूप में एक फ़ारसी (ईरानी) जासूस आपको ज़हर देने आएगा।

हकीम अपने घुटनों पर नादिम हो बैठ गया और हैरत से पूछने लगा , बादशाह सलामत फिर आपने यह अर्क क्यू पी लिया ,
सिकंदर जो कि अर्क पी कर राहत महसूस कर रहा था बोला : कि यह सच है कि तुम मुझे क़त्ल करने आये थे पर तुमने इरादा बदल दिया और यह बात तुम्हारी आँखों से बयां हो रही थी इसलिय पि लिया।
लेकिन तुमने इरादा क्यू बदला।
बुजुर्ग ईरानी हकीम ने कहा कि सच है मुझे आपको जहर देने के लिए भेजा गया था ,
लेकिन एक मुस्तहिक़ मरीज को देख एक क़ातिल ने मेरे अंदर दम तोड़ दिया और हिकमत हावी हो गयी ,, मेरे मक़सद पर मैंने अपने फ़र्ज़ को तरजीह दे कर सुकून महसूस किया।
मै क़त्ल या शिफ़ा दोनों में से शिफ़ा को चुना ,
और आपने मुझे अगर आज छोड़ दिया तो ईरान से मार्के में आप मुझे सफ़हे अव्वल में पाएंगे ।
क्यू कि उस वक़्त मेरा मकसद और फ़र्ज़ दोनों ही आपको हराना और हो सके तो कत्ल करना होगा।
और सिकंदर ने उसके नज़रिये से खुश हो कर , उसे अमान दे दी।।

ताहम उसने दिल ही दिल में सराहना की कि यह जिंदगी जीने का मुकम्मल नज़रिया है।

Related News

Like Us

क्रिकेट स्कोर्स और भी

HEADLINES

अखिलेश ने PM मोदी को घेरा- नोटबंदी, GST से व्यापारी बेहाल, BJP झेलेगी गुजरात चुनाव में इसका असर | मानवता शर्मशार : लखनऊ में ब्लड कैंसर पीड़ित लड़की से गैंगरेप, जिससे मदद मांगी उसने भी लूटी इज्जत | होटल के कमरे में अनमैरिड कपल का रहना गलत नहीं, पढिये, अनमैरिड कपल के अधिकार | टूटने की कगार पर पहुंच गया था अनुष्का-विराट का रिश्ता, इन्होंने ने बचाया था रिश्ता | NewsRedbull | 'दंगल गर्ल' जायरा वसीम के साथ फ्लाइट में छेड़छाड़, रोते हुए अपलोड किया वीडियो |